Airtel vs Jio: आखिर कौन देगा सबसे सस्ते 5G प्लेन्स?

यह कहना तो बहुत ही मुश्किल है कि सबसे सस्ता प्लान कौन देगा? लेकिन अगर हम पिछले कुछ सालों के ट्रेंड को देखें तो हम यहाँ बेशक कह सकते हैं की Jio ही की ही 5G सबसे सस्ते प्लेन्स देगी। आपको तो याद ही होगा जब 2016 में फ़ोर जिओ ने लॉन्च किया था। तो कितना सस्ता था मतलब, उन्होंने सारे टेल्को कंपनी के होश उड़ा दिए थे।

वो तो पता ही होगा कि Airtel अपने ARPU पे ज्यादा फोकस करता है। जिसका मतलब एवरेज रेवेन्यू पर यूजर होता है। आसान भाषा में समझें तो इसका मतलब ये होता है की हम कितने पैसे एक यूजर से कमा सकते हैं, मंथ्ली बेसिस पे। और आपको तो पता ही होगा की एयरटेल हमेशा प्रीमियम कैटेगरी में अपने आप को दिखाता है। और उनके प्लान सभी Jio और वोडाफोन आइडिया के मुकाबले थोड़े से ज्यादा पैसे की होते हैं।

वही हैं अगर Jio की बात कर ले तो Jio अपने कस्टमर Scale को ज्यादा बढ़ाता है और हलके हलके पैसे कमा के ही ज्यादा लोगों से पैसे कमा के वो सब से अच्छी ज्यादा प्रॉफिट कमा पाता हे।

क्या 5G प्लैन सस्ते होंगे?

दोस्तों, हम इसका अंदाजा पहले से तो नहीं लगा सकते क्योंकि इंडिया जैसे देश में, लोग बहुत ही कम पैसे खर्च करना चाहते। वही हम अगर बात करें तो Airtel के CTO जो की चीफ टेक्नोलॉजी ऑफिसर होते हैं। उन्होंने हाल ही में एक ट्विटर स्पेसेस सेशन में खुलासा किया था कि 4G प्लैन्स और 5G प्लेन्स में ज्यादा डिफरेंस नहीं होंगे।

क्या 5G लोग यूज़ करेंगे?

हाँ, इंडिया में लोग 5G यूज़ करेंगे। और एक्सपेक्टेड जो यूसर बेस होता है उससे भी बहुत ही ज्यादा फास्ट ग्रोथ होगा 5G का। ओपन सिग्नल जो कि एक इंटरनेट कंपनी है, उनकी एक रिपोर्ट की मानें तो 9.7% इंडियन स्मार्टफोन ऑलरेडी फाइव जी को सपोर्ट करते हैं। तो अगर आप ऐसा सोचें कि अगर लगभग 10% इंडियन स्मार्टफोन पहले से ही 5G सपोर्ट करते है तो वो 5G पे स्विच क्यों नहीं करेंगे? और आपको तो मैंने पहले ही बता दिया है की 5G की प्राइस ज्यादा नहीं होने वाली है तो लोग 5G की थोड़ी सी अच्छी स्पीड पाने के लिए वो फाइव जी पे जरूर जाएंगे।

दोस्तों हम आपको बता दें कि इसमें कुछ यूजर्स ऐसे भी हो सकेंगे जो 5G को यूज़ नहीं करना चाहेंगे। और इनका रीज़न सिम्पल है बस Pricing। अगर Telco को कंपनी को चाहना है की वो फाइव जी यूज़ करेंगे। तो, उन्हें अपनी प्राइसिंग थोड़ी कम करनी पड़ेगी।

वहीं पे हम बात कर ले तो आजकल ब्रॉडबैंड फाइबर कनेक्शन भी काफी सस्ते प्लेन्स देते हैं। तो अगर 5G के स्पीड ज्यादा नहीं रही तो लोग ब्रॉडबैंड ही ज्यादा प्रिफर करेंगे और इसे 5G टेलीकॉम कंपनी को नुकसान हो सकता है।

दोस्तों, मैं आपको बता दूँ की सबसे अच्छी फाइव जी की स्पीड तो जइयो ही देगा, क्योंकि हमने यह बात में देख लिया था कि जिओ ने लगभग ₹80,00,00,000, स्पेक्ट्रम खरीदने में लगा दिए थे। और उनका फाइव जी भी स्टैंडअलोन फाइव जी होगा। वही अगर हम बात कर ले एयरटेल और वोडाफोन आइडिया की तो उनका फाइव जी नॉन स्टैंडर्ड लोन होगा। मतलब की वो फ़ोर जी सर्विसेज कोई यूज़ करके थोड़ी सी नेटवर्क स्पीड बढ़ा देंगे और हमें उल्लू बनाएंगे।

तो दोस्तों, बस यही अगर आपको और कोई जानकारी चाहिए या फिर कुछ समझ में नहीं आया तो हमें कमेंट करें और अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करें। फिर मिलते हैं अगले ब्लॉग में धन्यवाद।

Leave a Comment